Chatha Kalma In Hindi – [6] छठा कलमा रद्दे कुफ्र हिंदी में

आज यहां पर आप एक बहुत ही रहमत व बा बरकत भरी कलमा यानी छठा कलमा हिंदी में जानेंगे हमने यहां पर छठा कलमा रद्दे कुफ्र हिंदी, अरबी और इंग्लिश के साफ़ और आसान लफ़्ज़ों में पेश किया है।

जिसे आप आसानी से पढ़ कर समझ जाएंगे और इसके बाद आप आसानी से हमेशा पढ़ पाएंगे यकीनन इसके बाद आप को फिर कहीं छठा कलमा ढूंढने की जरूरत नहीं होगी इसी लिए आप यहां ध्यान से पढ़ें।

Chatha Kalma In Hindi

अल्लाहुम्मा इन्नी अऊजु बिका मिन अन उशरि क बि क शैअंव व अना आअलमु बिही व अस्तगफिरू कलिमा लाअलमु बिही तुब्तु अन्हू व तबर्राअतु मिनल कुफरि वशिशर्कि वल किज्बी वल गीबति वल बिदअति वन्नमीमति वल फवाहिशि वल बुहतानी वल मआसी कुल्लिहा व अस्लम्तु व अकूलु ला इल्लाहा इल्लल्लाहु‌ मुहम्मदुर रसूलल्लाह।

यह भी पढ़ें: पहला कलमा

Chatha Kalma In Arabic

اَللّٰهُمَّ  اِنِّیْٓ  اَعُوْذُ  بِكَ  مِنْ  اَنْ  اُشْرِكَ  بِكَ  شَيْئًا  وَّاَنَآ  اَعْلَمُ  بِهٖ  وَ اَسْتَغْفِرُكَ لِمَا لَآ اَعْلَمُ بِهٖ تُبْتُ عَنْهُ وَ تَبَرَّأْتُ مِنَ الْكُفْرِ  وَ  الشِّرْكِ  وَ الْكِذْبِ وَ  الْغِيْبَةِ  وَ  الْبِدْعَةِ  وَ  النَّمِيْمَةِ  وَ  الْفَوَاحِشِ  وَ الْبُهْتَانِ وَ الْمَعَاصِىْ كُلِِّهَا وَ اَسْلَمْتُ وَ اَقُوْلُ لَآ اِلٰهَ اِلَّا اللهُ مُحَمَّدٌ  رَّسُوْلُ  اللهِؕ

इसे भी पढ़ें: दूसरा कलमा

Chatha Kalma In English

Allahumma inni A’ujubikaa Min A’n Ushrikaa Bi’k Shaiyanw Wa Anaa Aa’almu Bihee Wa Astagfiru Kalima La’almu Bihi Tubatu Anhoo Wa Tabarraaatu Minal Qufree Wa Shisharki Wal Kijbi Wal Gibatee Wal Bi’bidati Wannmimati Wal Fawaheeshi Wal Buhtaani Wal Ma’aasi Qulliha Wa Aslamtu Wa Akulu La illaha illallahu Muhammadur Rasulallah.

अवश्य पढ़ें: तीसरा कलमा

Chatha Kalma Ka Tarjuma

ऐ अल्लाह मैं तेरी पनाह मांगता हूं इस बात से की किसी चीज़ को मैं तेरा शरीक बनाउं और मुझे उसका इल्म हो और मैंने माफी मांगी तुझ से उस गुनाह की जिसका मुझे इल्म नहीं और मैं बेजार हुआ कुफ्र से और शिर्क से और झूठ से और गिबत से और बिदअत से और चुगली से और बेहयाई के कामों से और तोहमत लगाने से और हर किस्म का नाफरमानियों से और तस्लीम किया मैंने और ईमान लाया मैं और कहता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक नहीं, हज़रत मुहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम अल्लाह के रसूल हैं।

Chatha Kalma
Chatha Kalma

छठा कलमा रद्दे कुफ्र का क्या मतलब है?

रद्दे कुफ्र या रद्द ए कुफ़र का मतलब कुफ्र का रद्द करना या यूं कहें तो अस्वीकार या अविश्वास है, यहां पर जब हम इस कलमे को पढ़ते हैं तो उसके तर्जुमे से यह आती है।

Must Read: Chautha Kalma In hindi

हम अपने रब के साथ किसी का शरीक नहीं करते अगर गलती से या ना जानते हुए हमारे अंदर भी किसी और का ख्याल हो तो उसके लिए अपने रब से पनाह मांगते हैं हम अपने रब के सिवा किसी को मानते ही नहीं।

इसके साथ साथ हम अपने रब से सब बुरी चीजें जैसे झूठ बेहयाई, बिदअत, झूठा इल्जाम, चुगली और हर उस तरह की नाफरमानी से बचने की तौफीक मांगते हैं जो हमारे रसूल के सुन्नत के खिलाफ होता है।

Read Also: Panchwa Kalma In Hindi

छठा कलमा रद्दे कुफ्र की फजीलत व फवाएद

सबसे पहले यह कि हम सब इस बात से परिचित यानी वाकिफ हैं कि कलमा इस लिए हम लोग पर नाजिल हुई जिसे हम सब अपने रब की ताकत समझें और ईमान लाएं कलमा की किसी भी हदीस में कोई ख़ास फजीलत तो नहीं लेकिन कुछ बेहतरीन कुफ्र लफ्ज़ से फायदे हैं।

सबसे पहले इस कलमा का पढ़ना हमारे ईमान की स्तंभ मजबूत होती है जी बेशक!

इसमें हम अपने दिल व जेहन से हर उस वसवसे से निजात अस्वीकार या अविश्वास चाहते हैं जो मन को अक्सर भटकाता रहता है।

इस छठे कलमे को पढ़ने से हमारे अन्दर वो पुख्ता ताकत आती है जिसे हम सब किसी की बुराई झूठ जैसे सगीरा व कबीरा गुनाहों से बचना चाहते हैं।

आख़िरी बात

आप ने इस रहमत व बरकत भरी पैगाम में छठा कलमा बहुत ही साफ और आसान लफ़्ज़ों में पढ़ा और इसका तर्जुमा से समझा भी इसके साथ साथ आपने छठे कलमे की तारीफ और मतलब भी मुलायजा फरमाया यकीनन इसके बाद आप छठा कलमा तो जान ही गए होंगे।

इसके साथ साथ आप छठे कलमे से रिलेटेड अपने सवाल का कई सारे जवाब भी पा लिए होंगे अगर इसके बाद भी आपके जेहन में छठे कलमे से जुड़ी कोई सवाल बाकी रह गई हो या फिर कुछ डाउट हो तो आप हमसे कॉमेंट करके ज़रूर पूछें हम आपके जवाब जरूर देंगे।

अगर यह लेख आपके लिए लाभदायक यानी हेल्पफुल प्रतीत हुई हो या इस पैग़ाम से कुछ आपको सीखने को मिला हो तो आप भी जिन्हें ना मालुम हो उन्हें तो बताएं जिसे सब लोग वाकिफ हो जाएं साथ ही अपने नेक दुआओं में हमें भी हमेशा याद रखें शुक्रिया।

My name is Muhammad Ittequaf and I'm the Editor and Writer of Zoseme. I'm a Sunni Muslim From Ranchi, India. I've experience teaching and writing about Islam Since 2019. I'm writing and publishing Islamic content to please Allah SWT and seek His blessings.

Share This Post On

Leave a Comment