Inshallah Meaning In Hindi – इंशाअल्लाह का क्या मतलब है?

आज यहां पर आप एक बहुत ही रहमत व बरकत भरी साथ ही मशहूर लफ्ज़ इंशाल्लाह का मतलब जानेंगे हमने यहां पर बहुत ही आसान और साफ लफ़्ज़ों में इंशाल्लाह का मतलब और अर्थ बताया है।

जिसे आप आसानी से पढ़ कर इंशाल्लाह का मतलब बहुत ही आसानी से समझ जाएंगे यकीनन इस पैग़ाम को पढ़ने के बाद फिर आपको कहीं पर भी इंशाल्लाह से जुड़ी जानकारी खोजने की ज़रूरत नहीं होगी।

Inshallah Meaning In Hindi

अगर अल्लाह ने चाहा
Inshallah Meaning In Hindi
Inshallah Meaning In Hindi

Inshallah Meaning In English

If God Wills or God Willing

Read Also: Fabi Ayyi Ala i Rabbikuma Tukazziban Meaning In Hindi

इंशाअल्लाह का मतलब क्या होता है?

इंशाल्लाह का मतलब अगर हमारा रब अल्लाह तबारक व तआला ने चाहा तो होता है, जब हम में से कोई आशिक ए रसूल अपने आने वाले समय में कुछ खास और अच्छा काम करने को सोचता है।

या फिर किसी भी तरह का कोई कार्य आने वाले भविष्य में करना चाहता है तो वह भी अपने रब अल्लाह तबारक व तआला का जिक्र करके कहता है इंशाल्लाह तआला ज़रुर होगा या करूंगा।

यहां पर मतलब हुआ कि अगर अल्लाह ने चाहा तो इस काम को अपने ज़िंदगी में एक रोज जरूर मुकम्मल करूंगा या होगा आप ने भी बहुत सारे लोगों से सुना होगा कि वन डे इंशाल्लाह यानी खुदा ने चाहा तो एक दिन जरूर।

इसे भी पढ़ें: अल्हम्दुलिल्लाह का मतलब क्या होता है?

इंशाल्लाह कब बोला जाता है?

इंशाल्लाह आप इन खास मौकों पर बोल सकते हैं:

  • किसी से भी मिलने का वादा करते वक्त।
  • नेक काम और जायज काम होने के लिए।
  • जैसे मैं आज नमाज अदा करूंगा इंशाल्लाह।
  • किसी भी तरह की काम की आशा व्यक्त करते वक्त।
  • खुद से और लोगों से भी वादा करते वक्त इंशाल्लाह बोलें।

आप हर रोज़ अपने आइंदा दिन भविष्य के बारे में कुछ सोचते और कुछ अच्छा कार्य को सफलतापुर्वक अंजाम देने लिए भी इंशाल्लाह जैसे रहमत व बरकत भरी लफ्ज़ का इस्तेमाल करें क्योंकी सब तो रब के ही हाथ में है।

इंशाल्लाह बोलने की फजीलत जानें

इंशाल्लाह बोलने की फजीलत बेशुमार है कुछ अनमोल और ख़ास फजीलतें हमने यहां बयां की है:

  1. इंशाल्लाह बोलने का सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें हम अपने रब को शरीक करते हैं।
  2. इस लफ्ज़ को बोलने का खास फजीलत यह है कि हमारे कार्य में अल्लाह का भूमिका होता है।
  3. किसी होने वाले काम पर इंशाल्लाह बोलने से उसे मुकम्मल होने की ज्यादा उम्मीद होती है।
  4. इंशाल्लाह बोलने से कठीन से कठीन कार्य अल्लाह तबारक व तआला आसान फरमाता है।
  5. इंशाल्लाह जब कोई बोलता है तो खुदा राजी होता है उसके नेक व जायज रजा से और उसे पूरी करता है।

इससे ज्यादा और भी इंशाल्लाह बोलने की फायदे मौजुद है तो आप भी हर रोज किसी भी कार्य का अच्छा अंजाम पाने के लिए दिल से इंशाल्लाह पूरी यकीन के साथ कहा करें जिसे आप के काम आसानी से रब पुरा फरमाए।

साथ ही कहीं पर जाने के लिए भी किसी से मिलने के लिए भी इंशाल्लाह बोला करें इससे फ़ायदा यह होगा कि आप कहीं पर मुकम्मल खुदा की रहमत से पहुंच जाएंगे क्योंकी आप को भी मालूम होगा कि बहुत मंजिल पर पहुंच भी नहीं पाते हैं।

किसी से मिलने का इरादा करते हैं तो वो फख्त एक ख्वाब ही रह जाता है इस लिए आप हमेशा जब भी कुछ आने वाली इस ज़िंदगी में होने की बात हो तो इंशाल्लाह ज़रूर बोले ताकी आप की इच्छा और जरूरत पूरी हो जाए।

आप अपने दिल में एक बात को हमेशा के लिए बसा लें कि बगैर अल्लाह की मदद के किसी भी छोटे से छोटे या बड़े से बड़े कठिन काम को अंजाम नहीं दे सकते इस शब्द को कुरान पाक से लिया गया है और कुरान हमारा रब अल्लाह तबारक व का सबसे मजीद और कबीर किताब है।

FAQs

इंशाल्लाह का मतलब क्या?

इंशाल्लाह का मतलब अगर अल्लाह ने चाहा तो।

इंशा अल्लाह कैसे लिखते हैं?

हिंदी में इस तरह ‘इंशाअल्लाह’ और अरबी में إِن سَاء اللّٰہِ इस तरह लिखते हैं।

इस्लाम में इंशाल्लाह का क्या अर्थ है?

इस्लाम में इंशाल्लाह का अर्थ है कि ‘अगर अल्लाह ने चाहा’ तो जरूर होगी।

आख़िरी बात

आप ने इस पैग़ाम में बहुत ही मशहूर शब्द यानी इंशाल्लाह जैसे रहमत और बरकत भरी लफ्ज़ की जानकारी हासिल की साथ ही हमने यहां पर इंशाल्लाह से जुड़ी कई अच्छी इल्म पेश की थी आप जरूर उसे पढ़ें भी होंगे जो को बहुत अच्छी अच्छी बातें बताई गई थी।

अगर अभी भी आपके मन में इंशाल्लाह से जुड़ी कुछ डाउट या फिर किसी तरह का कोई सवाल हो तो आप हमसे कॉमेंट करके ज़रूर पूछें हम आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द देने की कोशिश करेंगे इंशाल्लाह और आप भी ऐसे ही हर अच्छे कार्य को अच्छे अंजाम के लिए इंशाल्लाह बोलें।

अगर यह पैगाम आपको अच्छा लगा हो यानी इस पैग़ाम से कुछ भी आपको इल्म ए दीन हासिल हुई हो तो आप भी ऐसे इल्म को ज्यादा से ज्यादा फैला कर अपने नामए आमाल में नेकियों का इजाफा करें साथ ही अपने नेक दुआओं में हमें भी ज़रूर याद रखें शुक्रिया।

My name is Muhammad Ittequaf and I'm the Editor and Writer of Zoseme. I'm a Sunni Muslim From Ranchi, India. I've experience teaching and writing about Islam Since 2019. I'm writing and publishing Islamic content to please Allah SWT and seek His blessings.

Share This Post On

Leave a Comment