Pehle Ashre Ki Dua – रमज़ान के पहले अशरे की दुआ हिंदी अरबी और इंग्लिश में।

आज के इस पैग़ाम में आप एक बहुत ही ख़ास दुआ यानी कि माहे रमज़ान उल मुबारक के पहले अशरे की दुआ हिंदी, अरबी और इंग्लिश भाषा में जानेंगे यहां पर पहले अशरे की दुआ बहुत ही आसान लफ्ज़ों में बताया गया है।

जिसे आप पहले अशरे की दुआ बहुत ही आसानी से पढ़ कर अपने जेहन में बसा लेंगे इसके बाद आपको कहीं पर भी पहले अशरे की दुआ देखने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी इसीलिए आप यहां पर ध्यान से पढ़ कर याद कर लें।

Pehle Ashre Ki Dua

आप भी इस बात को जानते ही होंगे कि रमज़ान उल मुबारक के शुरू के 10 दिन यानी 1 रमज़ान से 10 रमज़ान पहला अशरा होता है।

इन दस दिनों को ही आप इस अशरे की दुआ को ज्यादा से ज्यादा हर रोज सुबह व शाम पढ़ा करें जिसे आपकी गुनाह माफ़ हो जाए।

Pehle Ashre Ki Dua In Hindi
Pehle Ashre Ki Dua

Pehle Ashre Ki Dua In Hindi

रब्बिग़ फिर वर-हम वा अन्ता ख़ैर-उर-राहिमीन

Must Read: Roza Kholne Ki Dua

Pehle Ashre Ki Dua In Arabic

رَبِّ اغْفِرْ وَارْحَمْ وَأَنْتَ خَيْرُ الرَّاحِمِينَ

Pehle Ashre Ki Dua In English

Rabbig Fir War-Ham Waa Antaa Khairur-Raahimeen.

Pehle Ashre Ki Dua Ka Tarjuma

अल्लाह! मुझे माफ कर दो और मुझ पर रहम करो आप सब से अधिक दयालु हैं।

आख़िरी बात

आपने इस पैगाम में एक बहुत ही अच्छी किस्म की मगफिरत भरी दुआ यानी कि पहले अशरे की दुआ हिंदी में जाना साथ ही हमने यहां पर पहले अशरे की दुआ इंग्लिश और अरबी में भी लिखा जिसे सब अपने अपने मन पसन्द भाषा में पढ़ कर अमल में ला सकें।

अगर अभी भी आपके मन में पहले अशरे की दुआ से जुड़ी कुछ डाउट हो तो आप हमसे कॉमेंट करके ज़रूर पूछें हमें आप के सभी सवालों के जवाब देने का कोशिश रहेगी इंशाअल्लाह क्योंकी मेरा मकसद शुरू से अभी तक यही रहा है कि हम आप के सभी इस्लाम से जुड़ी उलझन दूर करें।

अगर आप को यह पैगाम अच्छा लगा हो यानी कि आप इस पैग़ाम से जो कुछ भी हासिल किया हो तो आप इससे अपने तक न सीमित रख कर के बल्की सभी मोमिन व मोमिना को जरूर बताएं जिससे वो भी पहले अशरे की दुआ पढ़ कर अपने नामाए आमाल में नेकियों का इज़ाफा कर सकें।

My name is Muhammad Ittequaf and I'm the Editor and Writer of Zoseme. I'm a Sunni Muslim From Ranchi, India. I've experience teaching and writing about Islam Since 2019. I'm writing and publishing Islamic content to please Allah SWT and seek His blessings.

Share This Post On

Leave a Comment